अहंकार



Mountains ,trees and river; green landscape
               चित्र, साभार गगूल से......


मानसूनी मौसम में बारिश के चलते,
सूखी सी नदी में उफान आ गया ।
देख पानी से भरा विस्तृत रूप अपना,
इतराने लगी नदी, अहंकार छा गया
बहाती अपने संग कंकड़-पत्थर,
फैलती काट साहिल को अपने!

हुई गर्व से उन्मत इतनी,
पास बने कुएं से उलझी।
बोली कुआं ! देखो तो मुझको,
देखो ! मेरी गहराई चौड़ाई ,
तुम तो ठहरे सिर्फ कूप ही ,
मैं नदी कितनी भर आयी !!

शक्ति मुझमें इतनी कि सबको बहा दूँ ,
चाहूँ  गर  तो  तुमको भी खुद में समा दूँ।
मैं उफनती नदी हूँ. ! देखो जरा मुझको,
देखो ! बढ रही कैसे मेरी गहराई चौड़ाई।

मेरा नीर हिल्लौरें भरता,
मंजिल तक जायेंगे हम तो ।
कूप तू सदा यहीं तक सीमित,
सागर हो आयेंगे हम तो !

कुआं मौन सुन रहा,नदी को ,
नहीं प्रतिकार किया तब उसने।
जैसे  दादुर  की टर्र - टर्र से ,
कोयल मौन हुई तब खुद में ।

चंद समय में मौसम बदला ,
बरसाती जल अब नहीं बरसा।
नदी बेचारी फिर से सूखी
पुनः पतली धारा में बदली।

कुआं नदी को सम्बोधित करके,
फिर बोला  मर्यादित  बनके।
सुनो नदी !  कुछ अनुभव मेरे,
विस्तार ही सब कुछ नहीं बहुतेरे।

गुणवत्ता बिन व्यर्थ है जीवन ,
बिन उद्देश्य दिग्भ्रमित सा मन।
लक्ष्यविहीन व्यर्थ है विस्तार,
विनाशकारी  है अहंकार !!

क्षमा प्रार्थी संकुचित हो नदी बोली,
गलत किया जब "स्व" को भूली ।।








टिप्पणियाँ

कुआं नदी को सम्बोधित करके,
फिर बोला मर्यादित बनके.......
सुनो नदी !कुछ अनुभव मेरे,
विस्तार ही सब कुछ नहीं बहुतेरे.....

गुणवत्ता बिन व्यर्थ है जीवन ,
बिन उद्देश्य दिग्भ्रमित सा मन....
लक्ष्यविहीन व्यर्थ है विस्तार,
विनाशकारी है अहंकार.......बहुत सुंदर
मन की वीणा ने कहा…
वाह वाह अप्रतिम अद्भुत भाव रचना।
बहुत ही सुंदर सुधा जी ।
अंहकारी का सदा सर नीचा होता है।
अनीता सैनी ने कहा…
गुणवत्ता बिन व्यर्थ है जीवन ,
बिन उद्देश्य दिग्भ्रमित सा मन....
लक्ष्यविहीन व्यर्थ है विस्तार,
विनाशकारी है अहंकार.......वाह !! बहुत ख़ूब आदरणीय
सादर
Anuradha chauhan ने कहा…
गुणवत्ता बिन व्यर्थ है जीवन ,
बिन उद्देश्य दिग्भ्रमित सा मन....
लक्ष्यविहीन व्यर्थ है विस्तार,
विनाशकारी है अहंकार.......
बेहतरीन रचना सखी 👌🌹
Jyoti Dehliwal ने कहा…
गुणवत्ता बिन व्यर्थ है जीवन ,
बिन उद्देश्य दिग्भ्रमित सा मन....
लक्ष्यविहीन व्यर्थ है विस्तार,
विनाशकारी है अहंकार.......
बहुत ही सुंदर रचना, सुधा दी।
Sudha Devrani ने कहा…
सस्नेह आभार भाई बहुत शुक्रिया...।
Sudha Devrani ने कहा…
हार्दिक धन्यवाद, कुसुम जी !
सस्नेह आभार....
Sudha Devrani ने कहा…
बहुत बहुत शुक्रिया अनीता जी !
सस्नेह आभार आपका...
Sudha Devrani ने कहा…
शुक्रिया अनुराधा जी!बहुत बहुत धन्यवाद आपका...
Sudha Devrani ने कहा…
हार्दिक आभार ज्योति जी!बहुत बहुत शुक्रिया...
Sudha Devrani ने कहा…
आभार अभिलाषा जी ! बहुत बहुत धन्यवाद ।
Pammi singh'tripti' ने कहा…

आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 26 अगस्त 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!
Sudha Devrani ने कहा…
हार्दिक धन्यवाद पम्मी जी मेरी रचना को पाँच लिंको का आनंद के प्रतिष्ठित मंच पर साझा करने हेतु।
शुभा ने कहा…
वाह!सुधा जी ,एक गहरी सीख देती हुई खूबसूरत रचना ।
Sudha Devrani ने कहा…
हार्दिक धन्यवाद एवं आभार आ.जोशी जी!
Sudha Devrani ने कहा…
हृदयतल से धन्यवाद शुभा जी!
सस्नेह आभार।

फ़ॉलोअर

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ज़िन्दगी ! समझा तुझे तो मुस्कराना आ गया

गई शरद आया हेमंत

पा प्रियतम से प्रेम का वर्षण