शुक्रवार, 18 नवंबर 2016

राजनीति और नेता


       

     आज मेरी लेखनी ने राजनीति की तरफ देखा,
 आँखें इसकी चौंधिया गयी मस्तक पर छायी गहरी रेखा।
                                                                               
   संसद भवन मे जाकर इसने नेता देखे बडे-बडे,
 कुछ पसरे थे कुर्सी पर ,कुछ भाषण देते खडे-खडे।
                     
          कुर्सी का मोह है ,शब्दों में जोश है,
 विपक्ष की टाँग खींचने का तो इन्हें बडा होश है।
                
    लकीर के फकीर ये,और इनके वही पुराने मुद्दे,
        बहस करते वक्त लगते ये बहुत ही भद्दे

  काम नहीं राम मंदिर की चर्चा इन्हें प्यारी है,
  शुक्र है इतना कि अभी मोदी जी की बारी है।
                                        
     मोदी जी का साथ है,देश की ये आस है।
     कुछ अलग कर रहे हैं,और अलग करेंगें,
              यही हम सबका विश्वास है।
                                   
   लडखडाती अर्थव्यवस्था की नैया को पार लगाना है
विपक्ष को अनसुना कर मोदी जीआपको देश आगे बढाना है।
                                                              (सुधा देवरानी)

मंगलवार, 15 नवंबर 2016

प्रकृति की रक्षा ,जीवन की सुरक्षा

      



उर्वरक धरती कहाँ रही अब?
सुन्दर प्रकृति कहाँ रही अब ?
कहाँ रहे अब हरे -भरे  वन?
ढूँढ रहा है जिन्हें आज मन
                          तोड़ा- फोड़ा इसे मनुष्य ने,
                           स्वार्थ -सिद्ध करने  को  ।
                           विज्ञान का नाम दे दिया ,  
                           परमार्थ सिद्ध करने को ।।
  सन्तुलन बिगड़ रहा है,
 अब भी नहीं जो सम्भले।
  भूकम्प,बाढ,सुनामी तो
  कहीं तूफान  चले।
  बर्फ तो पिघली ही,
  अब ग्लेशियर भी बह निकले।
  तपती धरा की लू से,
  अब सब कुछ जले।
                     विकास कहीं विनाश न बन जाये,
                      विद्युत आग की लपटों में न बदल जाए
                      संभल ले मानव संभाल ले पृथ्वी को,
                      आविष्कार तेरे तिरस्कार न बन जायें।।
कुछ कर ऐसा कि,
सुन्दर प्रकृति शीतल धरती हो।
हरे-भरे वन औऱ उपवन हों।
कलरव हो पशु -पक्षियों का,
वन्य जीवों का संरक्षण हो।।
                         प्रकृति की रक्षा ही जीवन की सुरक्षा है।
                          आओ इसे बचाएं जीवन सुखी बनाएं।।

शनिवार, 5 नवंबर 2016

माँ ! तुम सचमुच देवी हो......









किस मिट्टी की बनी हो माँ?
क्या धरती पर ही पली हो माँ !?
या देवलोक की देवी हो,
करने आई हम पर उपकार।
माँ ! तुम्हें नमन है बारम्बार!
                                सागर सी गहराई तुममें,
                                आसमान से ऊँची हो।.
                                नारी की सही परिभाषा हो माँ !
                                सद्गुणों की पूँजी हो।
जीवन बदला, दुनिया बदली,
हर परिवर्तन स्वीकार किया।
हर हाल में धैर्य औऱ साहस से,
निज जीवन का सत्कार किया।।
                                  सारे दुख-सुख दिल में रखकर,
                                  तुम वर्तमान में जीती हो...
                       .          खुशियां हम सब को देकर के माँ !
                                  खुद चुपके से गम पीती हो।
अच्छा हो या बुरा हो कोई,
माँ !  तुम सबको अपनाती हो।
दया और क्षमा देकर तुम,
सहिष्णुता सिखलाती हो।।
                                जब छोटे थे मातृत्व भरी,
                                ममता से सींचा हमको।
                                जब बडे़़ हुए तो दोस्त बनी, माँ  !
                                पग-पग का साथ दिया हमको।।
फिर पापा बन मुश्किल राहों में,
चलना हमको सिखलाया।
जब घर लौटे तो गृहस्थी का भी,
पाठ तुम्हीं ने बतलाया।।
                                थके हारे जब हम जीवन में,
                               आशा का दीप जलाया तुमने। 
                                प्रकाशित कर जीवन की राहें,
                                जीने का ज़ोश जगाया तुमने।।
प्रेरणा हो तुम,प्रभु का वर हो।
किन पुण्यों कि फल हो माँ !?
जीवन अलंकृत करने वाली,
शक्ति एक अटल हो माँ !   ।
                                आदरणीय हो,पूज्यनीय हो।
                                 तुम सरस्वती ,लक्ष्मी हो माँ !
                                 मेरे मन-मन्दिर में बसने वाली
                                 तुम सचमुच देवी हो माँ !!    ।।
                                                       -सुधा देवरानी