रविवार, 29 जनवरी 2023

असर


Messy room

माँजी खाना खा लीजिए न ! ऐसे खाने पर क्यों गुस्सा उतारना ? चलिए न माँजी ! फिर आपकी दवाओं का समय हो रहा है , तबियत बिगड़ जायेगी ! चलिए खाना खा लीजिए न !

कितनी देर से सीमा ऐसे ही अपनी सासू माँ को मना रही थी, पर सासू माँ आज  मुँह फुलाए बैठी थी , आखिर उनके लाडले पोते बंटी को उसके पापा से डाँट जो पड़ गयी थी ।

बंटी आजकल अपनी दादी के इसी प्यार का गलत फायदा उठा रहा था , कोई भी गलती करता और डाँट पड़े तो दादी से शिकायत !

वह जानता था कि दादी सबको डाँट-डपट कर उसे बचा लेंगी , नतीजतन वह बहुत ही लापरवाह होता जा रहा था ।

उसका सामान पूरे घर भर में बिखरा रहता । जूते - चप्पल भी वह कभी सही तरीके से सही जगह न रखता । उसका कमरा भी हमेशा अस्त-व्यस्त रहता, किताबें और कपड़े पूरे कमरे में तितर-बितर फैले रहते ।

सीमा (उसकी माँ) उसके कमरे में बिखरे सामानों को समेटते - समेटते थक जाती और जब भी कभी उसे इस बारे में डाँटती या कुछ भी कहती तो वह साथ-साथ जुबान लड़ाता ।

माँ को तो जैसे कुछ समझता ही नहीं था । तंग आकर सीमा ने आज उसके पापा से शिकायत कर दी । पापा की डाँट पड़ी तो घड़ियाली आँसू बहा आया दादी से लिपटकर ।

बस फिर दादी शुरू हो गयी, बेटा तो ऑफिस के लिए निकल पड़ा, बची बहू !  खूब सुनाया । फिर भी चैन न आया तो बाकी का गुस्सा खाने पे भी...।

छोटी बबली ये सब देख रही थी । देख रही थी कि माँ के मनाने पर भी दादी मान नहीं रही । भूखी बैठी हैं , और मम्मी ने भी तो कुछ नहीं खाया है । 

वह सोचने लगी, क्यों करते हैं भैया ऐसा ? बड़े हैं पर अकल नहीं है जरा भी ! और दादी को भी क्या ही हो जाता है भैया को लेकर ! मुझे तो हर छोटी-बड़ी बात पर खूब समझाती हैं ।  छोटी सी गलती पर भी खूब डाँटती हैं । पर भैया की गलतियाँ और लापरवाहियां तो जैसे दिखती ही नहीं इन्हें । पर क्यों ? क्यों अनदेखा करती हैं दादी भैया की गलतियाँ ?

उसने सोचा आज दादी से पूछ ही लूँ  । पास जाकर बोली, "दादी ! क्या हुआ ? गुस्सा क्यों हो" ? सुनकर दादी तो जैसे बिफर ही पड़ी । बोली,  "अपनी माँ पूछ ! पूछ अपनी माँ से ! जिसने बेवजह मेरे बंटी की शिकायत करके उसे डाँट खिलाई । वैसे ही तेरा पापा है जो इसके कहने में आ जाता है । कितना रो रहा था मेरा बंटी" ! कहते हुए दादी का गला भर आया। दादी को दुखी देख बबली भी दुखी होकर दादी से चिपक गयी ।

दादी फिर गुस्से में बोली , "हाथ झड़ रहे थे तेरी माँ के उसका कमरा साफ करके ?  बिना बात में पापा - बेटे के बीच मन-मुटाव करवा दिया। बबली ! सुन ! आज से तू साफ-सफाई करेगी बंटी के कमरे की ! ठीक है ! सुन लिया तूने" ? 

"जी, दादी ! मैं कर लूँगी ! पर दादी ! भैया तो मुझसे भी बड़े हैं न, फिर वे खुद क्यों नहीं करते हैं अपने काम ? आपने ही ने तो बताया है न दादी ! कि अपना काम खुद करना चाहिए । और अगर काम करने में कुछ गलती हो भी जाय तो अपनी ही गलतियों से हमेशा कुछ सीखना भी चाहिए । है न दादी !  तभी तो मैं हमेशा करती हूँ, पर भैया कभी नहीं करते । क्या उन्हें ऐसा करने की जरुरत नहीं है" ?

बबली ने पूछा तो दादी समझाते हुए बोली, "जरूरत तो है उसे भी, पर क्या करें बेटा ! आजकल उसकी ग्रहदशा ठीक नहीं है। पंडित जी से कुंडली दिखवाई थी मैंने उसकी। उन्होंने बताया कि अभी उसके ग्रहों की स्थिति खराब है, उसी के असर से वह कुछ चिड़चिड़ा हो गया है ।  ऐसे ग्रहदोष में बच्चे चिड़चिड़े और उग्र हो ही जाते हैं । हमें ही ध्यान रखना होगा उसका । और ग्रहशांति का पाठ करवाना होगा तब वह भी समझदार और शांत स्वभाव का हो जायेगा तेरी तरह...। पर देख न तेरी मम्मी के हाल ! अरे ! ग्रहशांति का पाठ तो करवाने को तो कहा नहीं तेरे पापा से, ऊपर से ये गृहक्लेश करवा दिया। अब तू ही समझा अपनी माँ को" !

"ठीक है दादी ! मैं जरूर बात करुँगी मम्मी-पापा से।पर दादी ! मैंने एक बुक में पढ़ा कि अगर हम अच्छे से नहीं रहते , अपना काम अपनेआप नहीं करते , चीजों को अस्त-व्यस्त फैलाकर रखते हैं और घर में जूते-चप्पल सही जगह सलीके से नहीं रखते तो हमारे ग्रहों पर भी इसका गलत असर पड़ता है। मतलब वही... ग्रहदोष लगता है, और फिर ऐसी गलतियों पर जब हमें बार-बार बड़ों की डाँट पड़ती है तो हम चिड़चिड़े भी हो जाते हैं" ।

"कहाँ पढ़ा तूने "? दादी ने पूछा तो उसने कहा, "एक बुक में ,  आप पढ़ोगे ? मैं लाती हूँ , आप अपना चश्मा पहनिए"। वह जाने लगी तो दादी बोली, "रूक ! जाने दे ! उसमें तो अंग्रेजी मे लिखा होगा न ? हाँ दादी ! पर यही लिखा है। उसने देखा कि दादी उसकी बात बड़े ध्यान से सुन रही हैं तो समझाते हुए बोली, 

"दादी ! देखिए न , जैसे मम्मी को जल्दी से गुस्सा नहीं आता, पर पापा को आता है, क्योंकि पापा अपने छोटे-मोटे काम अपनेआप नहीं करते, अपनी चीजें भी इधर-उधर कहीं भी रख देते हैं । मम्मी ही सम्भालती है न उनके वॉलेट, हैंकी वगैरह। तो उन्हें भी ग्रहदोष लगता है । तभी तो पापा के जन्मदिन पर आप ग्रहशांति का पाठ करवाती हैं न पंडित जी से । दादी ! क्या आपने कभी अपने और मम्मी के जन्मदिन पर ग्रहशांति का पाठ करवाया" ?

व्यंगपूर्ण हँसते हुए दादी बोली, "नहीं हम औरतों को भला ग्रहशान्ति के पाठ की क्या जरूरत" !

"वही तो दादी ! हमें नहीं पड़ती इसकी जरूरत । क्योंकि हमारे ग्रह कभी खराब होते ही नहीं। हम तो अपना काम हमेशा अपने आप करते हैं और पूरे घर को भी ठीक ठाक करते रहते हैं। फिर हमारे ग्रह हमेशा शांत ही रहते होंगे , काश भैया और पापा भी"...


तभी दादी बीच में ही टोककर बोली, "जा,जाकर खाना लगा ! मेरा भी और अपनी माँ का भी । वह भी भूखी बैठी होगी अभी तक" । जी दादी ! आप आ जाओ कहकर बबली खुशी-खुशी खाना लगाकर लायी ।

और तब से घर के सारे नियम बदल गये, मम्मी को अब पहले सी हड़बड़ी और भागम-भाग नहीं थी क्योंकि अपना वॉलेट वगैरह सही जगह रखकर अपने आप लेने लगे और बंटी का कमरा भी अब व्यवस्थित रहने लगा ।


गुरुवार, 5 जनवरी 2023

वसुधा अम्बर एक हो गये


winter season

दिग-दिग्गज हैं अलसाये से

खग मृग भी सब सोये से हैं ।

थर थर थर है शिशिर काँपती,

साग-पात सब रोये से हैं ।


लता वृक्ष सब मुरझाए से,

पात बिछड़ने का झेलें गम ।

मारी-मारी फिरें तितलियाँ,

फूलों का मकरंद गया जम ।


छुपम-छुपाई खेल रहे रवि,

और पवन पुरजोर चल रही ।

दुबके सोये पता ना चलता,

रात कटी कब भोर टल रही ।


दादुर मोर सभी चुप-चुप हैं,

कोयल मैना कहीं खो गये ।

मौन मिलन आलिंगनबद्ध से

वसुधा अम्बर एक हो गये ।


सकल सृष्टि स्तब्ध खड़ी सी,

बाट जोहती ज्यों बसंत का ।

श्रृंगारित होगी दुल्हन सी,

शुभागमन हो रति अनंग का ।



असर

माँजी खाना खा लीजिए न ! ऐसे खाने पर क्यों गुस्सा उतारना ? चलिए न माँजी ! फिर आपकी दवाओं का समय हो रहा है , तबियत बिगड़ जायेगी ! चलिए खाना खा ...