शुक्रवार, 14 दिसंबर 2018

इधर कुआँ तो उधर खायी है.....


 political leaders in a trap

अपने देश में तो आजकल चुनाव की
लहर सी आयी है।
पर ये क्या ! मतादाताओं के चेहरे पर तो
गहरी उदासीनता ही छायी है ।
करें भी क्या, हमेशा से मतदान के बाद
जनता देश की बहुत पछतायी है ।
इस बार जायेंं तो जायें भी कहाँँ
इधर कुआँ तो उधर खायी है ।

चन्द सफलताओं के बाद ही भा.ज.पा में तो
जाने कैसी अकड़ सी आयी है ।
अपने "पी.एम" जी तो बस बाहर ही छपलाये
देश को भीतर से तो दीमक खायी है ।
बेरोजगारी, भुखमरी, गरीबी और मंहगाई में
रत्ती भर भी कमी नहीं आयी है ।
शिशिर की ठण्ड से ठिठुरकर मरते गरीब
जाने कहाँ सरकार ने कम्बल बँटवायी हैं ?
इस बार जायें तो जायें भी कहाँ
इधर कुआँँ तो उधर खायी है ।

कॉंग्रेस की जी-तोड़, कमर-कस मेहनत
शायद रंग ले भी आयेगी ।
मुफ्त ये,मुफ्त वो, मुफ्त सो,का लालच देकर
शायद बहुमत पा भी जायेगी ।
जरूरत, लालच,या मजबूरी (जो भी कहो)
बेचकर अपने बेसकीमती मत को
फिर नये नेता के बचकानेपन पर
सारी जनता सिर धुन-धुनकर पछतायेगी ।

रुको ! देखो !समझो ! परखो ! फिर सही चुनो !
लिखने में मेरी तो लेखनी भी कसमसाई है ।
हमेशा से यहाँ यूँ ही ठगी गयी जनता
राजनीति ने अपनी इतिहास दोहराई है ।
अब जायें तो जायें भी कहाँ
इधर कुआँ तो उधर खायी है ।




                               चित्र;साभार गूगल से...

गणपति वंदना

  जय जय जय गणराज गजानन गौरी सुत , शंकर नंदन । प्रथम पूज्य तुम मंगलकारी करते हम करबद्ध वंदन । मूस सवारी गजमुखधारी मस्तक सोहे रोली चंदन । भावस...