Tuesday, November 15, 2016

प्रकृति की रक्षा ,जीवन की सुरक्षा

      



उर्वरक धरती कहाँ रही अब?
सुन्दर प्रकृति कहाँ रही अब ?
कहाँ रहे अब हरे -भरे  वन?
ढूँढ रहा है जिन्हें आज मन
                          तोड़ा- फोड़ा इसे मनुष्य ने,
                           स्वार्थ -सिद्ध करने  को  ।
                           विग्यान का नाम दे दिया ,  
                           परमार्थ सिद्ध करने को ।।
  सन्तुलन बिगड़ रहा है,
 अब भी नहीं जो सम्भले।
  भूकम्प,बाढ,सुनामी तो
  कहीं तूफान  चले।
  बर्फ तो पिघली ही,
  अब ग्लेशियर भी बह निकले।
  तपती धरा की लू से,
  अब सब कुछ जले।
                     विकास कहीं विनाश न बन जाये,
                      विद्युत आग की लपटों में न बदलजाए
                      संभल ले मानव संभाल ले पृथ्वी को,
                      आविष्कार तेरे तिरस्कार न बन जायें।।
कुछ कर ऐसा कि,
सुन्दर प्रकृति शीतल धरती हो।
हरे-भरे वन औऱ उपवन हों।
कलरव हो पशु -पक्षियों का,
वन्य जीवों का संरक्षण हो।।
                         प्रकृति की रक्षा ही जीवन की सुरक्षाहै।
                          आओ इसे बचाएं जीवन सुखी बनाएं।।

Post a Comment